Category Archives: હ્રદયનાથ મંગેશકર

હ્રદયનાથ મંગેશકર શ્રેણીમાંના બધા પોસ્ટ (કક્કાવાર). સંપૂર્ણ પોસ્ટ માટે ક્લીક કરો.

केनू संग खेलू होली - મીરાંબાઈ
सांवरे रंग राची - मीरांबाई



सांवरे रंग राची – मीरांबाई

સ્વર – લતા મંગેશકર
સંગીત – હ્રદયનાથ મંગેશકર
આલબ્મ – ચલા વાહી દેશ (૧૯૬૯)

सांवरे रंग राची
राणा, मैं तो सांवरे रंग राची.
हरि के आगे नाची,
राणा, मैं तो सांवरे रंग राची.

एक निरखत है, एक परखत है,
एक करत मोरी हांसी,
और लोग मारी कांई करत है,
हूं तो मारा प्रभुजीनी दासी … सांवरे रंग

राणो विष को प्यालो भेज्यो,
हूं तो हिम्मत की काची,
मीरां चरण नागरनी दासी
सांवरे रंग राची … सांवरे रंग

– मीरांबाई

केनू संग खेलू होली – મીરાંબાઈ

આજે હોળી…..સૌને હોળીની શુભેચ્છા….

સ્વર : લતા મંગેશકર
સંગીત : હ્રદયનાથ મંગેશકર

केनू संग खेलू होली
पिया त्यज गये है अकेली..!

माणिक मोती सब हम छोडे
गले में पहनी सेली
भोजन भवन भलो नही लागे
पिया कारन भयी रे अकेली
मुझे दुरी क्युँ मेली ?

अब तुम प्रीत अवर सु जोडी
हम से करी क्युं पहेली ?
बहु दिन बीते, अजहुन आये,
लग रही ताला वेली
केनु दिल मा ये हेली ?

श्याम बिना जीयडो मुरझावे,
जैसे जल बिन बेली,
मीरा को प्रभू दरसन दिजो
मै तो जनम जनम की चेली
दरस बिना खडी दुहेली…

– મીરાંબાઈ